जैनाचार्य के प्रवेश के बाद विधि-विधान से हुआ भगवान की मूर्ति का प्रवेश

ram

भीनमाल। निकटवर्ती ग्राम भागली सिंधलान में नवनिर्मित जैन धर्म के 23 वें तीर्थंकर भगवान पार्ष्वनाथ के मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा 26 फरवरी को समारोह पूर्वक सम्पन होगी।

मीडिया प्रभारी माणकमल भण्डारी ने बताया कि इस उपलक्ष में  राष्ट्रसंत कोंकण केशरी आचार्य लेखेन्द्रसूरीष्वर म.सा., मृगेन्द्रविजय म.सा. तथा जैन साध्वी अक्षय रसा म.सा. आदि ठाणा तीन का भव्य प्रवेश रविवार को शुभ मुहुर्त में हुआ। इस अवसर पर शोभायात्रा का भी आयोजन किया गया। जिसमें जालोर, बागरा, भीनमाल सहित आस-पास के गॉवो के श्रद्धालुओं ने भाग लिया। इसके बाद भगवान पार्ष्वनाथ की मूर्ति सहित अन्य जिन बिम्बों का प्रवेश बैण्ड बाजे की धुन पर नाचते गाजते किया गया। मूर्ति प्रवेश के समय अहमदाबाद से आये भरत भाई शाह ने मूर्ति विधि-विधान की पूजा अर्चना करवाई। मूर्ति प्रवेश के समय पूजा, आरती तथा शांति स्नात्र का भी आयोजन किया गया।

मूर्ति प्रवेश के समय श्रावक तथा श्राविका जैन धर्म के गगन भेदी नारे लगा रहे थे तथा जैन धर्म के जयकारे गा रहे थे। इस अवसर पर रमेश बोहरा, भुपेन्द्र मेहता, पुष्पराज बोहरा, भंवरलाल दुर्गाणी, जुगराज दुर्गाणी, नरेन्द्र बालु अग्रवाल, रमेश नाणेचा सहित कई गुरू भक्त उपस्थित थे। राष्ट्रसंत कोंकण केशरी आचार्य लेखेन्द्रसूरीष्वर म.सा. के सानिध्य में पंच दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। कार्यक्रम के तहत 22 फरवरी को सिद्धचक्र महापूजन के साथ विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम होंगे।

इसी प्रकार 23 फरवरी को अट्ठारह अभिषेक के साथ भगवान पार्ष्वनाथ का जन्म कल्याणक भी मनाया जायेगा। 24 फरवरी को पार्ष्व पंच कल्याणक पूजा के साथ पार्ष्वनाथ की जीवनी पर आधारित लधु नाटिका प्रस्तुत की जायेगा। 25 फरवरी को पद्मावती देवी महापूजन के साथ पार्ष्वनाथ की जीवनी पर आधारित दीक्षा कल्याणक पर आधारित नाटक मंचित किया जायेगा। 26 फरवरी को विधि-विधान के साथ मंत्रोचार करते हुए षुभ मोहरत में प्राण प्रतिष्ठा सम्पन होगी।

पंच दिवसीय प्रतिष्ठा समारोह में प्रतिदिन रात्रि भक्ति भावना में सुप्रसिद्ध कलाकारो द्वारा सांस्कृतिक भी आयोजित किये जायेंगें । विशेश रूप से 25 फरवरी की रात्रि को मुम्बई से आये कलाकारों द्वारा राजा कुमारपाल की जीवनी पर नाटक का मंचन किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *