जहरीली शराब से हरिद्वार में 12 सहारनपुर में 5 लोगों की मौत

ram

सहारनपुर /हरिद्वार। उत्तराखंड के हरिद्वार जिले से एक बडी खबर आ रही है। एक गांव में जहरीली शराब पीने से 12 लोगों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि हरिद्वार के भगवानपुर के बालुपुर गांव में तेहरवीं के एक भोज के दौरान यह हादसा हुआ। इस दौरान कुछ लोगों ने शराब पी थी। वहीं सहारनपुर में भी जहरीली शराब के सेवन से 5 लोगों की मौत हो गई है। हरिद्वार के जिलाधिकारी दीपक रावत ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि उन्हें आठ लोगों के मरने की सूचना मिली है। वह स्वयं मौके पर रवाना हो रहे हैं।

 

बालुपुर गांव में तेहरवीं के भोज के साथ लोगों के शराब पीने से उस व्यक्ति की भी मौत हो गई, जिसके यहां तेहरवीं के भोज का आयोजित था। खाना खाने के बाद लोगों की तबीयत बिगडऩे लगी। इनमें से 8 लोगों की मौत हो गई, जबकि 4 को अस्पताल में भर्ती किए गए है।

उत्तराखंड के आबकारी मंत्री प्रकाश पंत ने कहा, ‘घर में बनाई गई कच्ची शराब के सेवन से इस घटना के होने की सूचना आ रही है। इस बात की भी जांच की जा रही है कि कहीं मामला फूड पॉइजनिंग का तो नहीं है।’ एसएसपी हरिद्वार जन्मेजय खंडूरी और एसपी देहात नवनीत सिंह मौके पर पहुंच गए हैं।

सहारनपुर में भी जहरीली शराब पीने से 5 की मौत…
इधर, यूपी में सहारनपुर थाना क्षेत्र के गांव उमाही में जहरीली शराब पीने से 5 युवकों की मौत हो गई और 8 लोग गंभीर बीमार हो गए। घायलों को नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एसएसपी दिनेश कुमार ने बताया गांव के ही पिंटू नामक युवक ने यह शराब खरीदकर गांव में बांटी थी। फिलहाल पुलिस के बड़े अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

प्रशासन ने मृतकों के परिजन को 2 लाख और गंभीर रूप से बीमार लोगों को 50 हजार रुपए मुआवजे देने का ऐलान किया है। इस मामले में तरयासुजान के इंस्पेक्टर, दारोगा और दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया है। जहरीली शराब बनाने और बेचने के आरोप में एक शख्स को गिरफ्तार भी किया गया है। जिले के डीएम और एसपी ने मृतकों के परिवार से बात की है और मदद का आश्वासन दिया है।

मुख्यमंत्री ने जताई नाराजगी…
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जहरीली शराब से हुई मौतों पर दुख जताया है। उन्होंने दोनों जगहों के जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि पीडि़त लोगों को उचित चिकित्सा सहायता दी जाए। उन्होंने आबकारी विभाग के प्रमुख सचिव को निर्देश दिया है कि दोनों जगहों के जिला आबकारी अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाए। सीएम का निर्देश है कि 15 दिन पुलिस और आबकारी विभाग मिल कर 15 दिन जॉइंट ऑपरेशन चलाएं और अवैध शराब के धंधे को ध्वस्त कर दें। उन्होंने डीजीपी को भी पुलिस अधिकारियों की जवाबदेही तय करने को कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *