राजकीय महाविद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पद शीघ्र भरे जाएंगे

ram

– उच्च शिक्षा राज्य मंत्री

जयपुर। उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवर सिंह भाटी ने सोमवार को विधानसभा में कहा कि प्रदेश में अनुसूचित क्षेत्र में संचालित राजकीय महाविद्यालयों में शिक्षकों के अधिकांश पद भरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 252 महाविद्यालयों में शिक्षकों के लगभग 2 हजार पद रिक्त हैं। इनमें से 850 पदों की भर्ती की अभ्यर्थना राजस्थान लोक सेवा आयोग को भेजी जा चुकी है। भर्ती एवं स्थानांतरण से अनुसूचित जनजाति उपयोजना क्षेत्र के पदों को शीघ्र भरने की कार्यवाही की जाएगी।

भाटी सदन में प्रश्नकाल के दौरान विधायकों की ओर से इस संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। इससे पहले विधायक राजकुमार रोत के मूल प्रश्न के जवाब में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में अनुसूचित क्षेत्र में संचालित राजकीय महाविद्यालयों में शिक्षकों के अधिकांश पद भरे हुए हैं। उन्होंने महाविद्यालयवार शिक्षकों के स्वीकृत, भरे हुए एवं रिक्त पदों का विवरण सदन के पटल पर रखा। उन्होंने कहा कि शेष रिक्त पदों को स्थानान्तरण व राजस्थान लोक सेवा आयोग से चयनित अभ्यर्थियों की सूची प्राप्त होने पर भरा जा सकेगा।

भाटी ने बताया कि शिक्षा (ग्रुप-1) विभाग के आदेश क्रमांक प. 10(6)शिक्षा-1/2007 दिनांक 18 फरवरी, 2010 के अनुसार राज्य के समस्त शिक्षक-प्रशिक्षण पाठयक्रमों (एम.एड., बी.एड., बी.पी.एड., शिक्षा शास्त्री, एस.टी.सी.) में अनुसूचित जनजाति उपयोजना क्षेत्र के स्थानीय अनुसूचित जनजाति के युवाओं को, प्रावधित 12 प्रतिशत का 45 प्रतिशत आरक्षण, सम्पूर्ण राज्य में स्थित शिक्षक-प्रशिक्षण संस्थाओं में राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद द्वारा स्वीकृत सीटों पर लागू किया गया है। यह आरक्षण अनुसूचित जनजाति के 12 प्रतिशत आरक्षण के अध्यधीन ही है।

उच्च शिक्षा विभाग के आदेश क्रमांक प. 10(6)शिक्षा-4/2007 दिनांक 4 जुलाई, 2016 द्वारा उपरोक्त व्यवस्था राज्य में स्थित समस्त उच्च शिक्षा विभाग से सम्बन्धी प्रवेश परीक्षाओं एवं समस्त उच्च शिक्षा विभाग सम्बन्धी संस्थाओं (महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय) में व्यावसायिक पाठयक्रमों यथा- एम.सी.ए., बी.सी.ए., एम.बी.ए., बी.बी.ए., बायोटेक्नोलोजी की स्नातकोत्तर डिग्री, स्नातकोत्तर डिप्लोमा, स्नातक डिग्री, स्नातक डिप्लोमा तथा अन्य सभी सर्टिफिकेट कोर्सेज में भी लागू कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *