बालाजी महाराज का जन्मोत्सव पर तीन दिवसीय लक्खी मेले का शुभारंभ

ram

मेहंदीपुर बालाजी। आस्था धाम घाटा मेहंदीपुर बालाजी मैं मंगलवार को बालाजी महाराज के दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं के आने का दौर शुरू हो गया । जिसके चलते बालाजी महाराज के दर्शनों के लिए भक्तों का हुजूम उमड़ पडा़। देश के कोने-कोने से आए बालाजी महाराज के भक्तों ने बालाजी महाराज की चौखट पर मत्था टेक कर अपनी अपने परिजनों की खुशहाली के लिए मन्नतें मांगी।

भक्तों के द्वारा बालाजी महाराज के लगाए गए जयकारों से दिन भर पावन धाम गुंजायमान होता रहा। आस्थाधाम श्री मेहंदीपुर बालाजी में प्रति वर्ष हनुमान जन्मोत्सव पर तीन दिवसीय लक्खी मेले का आयोजन होता है जिसमें देश के कोने-कोने से समूचे वर्ष बालाजी महाराज दर्शनों को पहुंचने वाले भक्त दर्शनों के उपरांत अपनी परेशानियों किसी संकट की बाधा रख कर लौटने के बाद हनुमान जन्मोत्सव पर भरने वाले मेले पर पुन: दर्शनों को पहुंचते हैं। भक्तों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए ।सुरक्षा के भी विशेष प्रबंध किए गए है श्री बालाजी महाराज सबसे शक्तिशाली देवता के रूप में पूजे जाते हैं हनुमानजी को बल, बुद्धि, विद्या, शौर्य निर्भयता का प्रतीक माना जाता है। हनुमानजी के जन्मोत्सव पर मंदिर परिसर के बाहरी आवरण के साथ गर्भगृह की मनमोहक साज-सज्जा की गई।

रंग-बिरंगी रोशनी व थ्रीडी लाइट से सजा मंदिर का गर्भगृह श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केन्द्र बना रहा मंगलवार को मोसम ने करवट बदली जिससे बारीस की बुदा बांदी आना शुरू हुआ ।मेहंदीपुर बालाजी श्रेत्र मे रात्री से मोसम ने करवट ली जिससे आधी अधङ चला उसके बाद सुबह बुदा बांदी हुई । बारीस से सडक पर पानी चमचमाने लगा ।श्रेत्र के कई इलाकों में बेमौसम बारिश से रबी फसलों को नुकसान पहुंचा है. बेमौसम बारिश से , गेहूं की फसल नुकसान हुआ । लोगो कहना है कि किसान गैहुं की फसलो की कटाई के कार्य मे लगे हुए ।दूसरी और बे मोसम हुई बारीस से काफी नुकसान है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *