जेकेके में आयोजित की जाएगी फोटोग्राफ एग्जीबिशन ‘एलिप्सिस – बिटविन द वर्ड एंड इमेज‘

ram

जयपुर। जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में इस माह एक अनूठी फोटोग्राफ एग्जीबिशन ‘एलिप्सिस – बिटविन द वर्ड एंड इमेज‘ आयोजित की जायेगी। ढाई माह चलने वाली इस एग्जीबिशन का जेकेके की म्यूजियम गैलरीज में 15 फरवरी को सायं 5 बजे उद्घाटन किया जाएगा। उद्घाटन के पश्चात एग्जीबिशन के क्यूरेटर, रहाब अल्लाना द्वारा प्रदर्शनी का क्यूरेटोरियल वॉकथ्रू करवाया जाएगा, जिसमें वे एग्जीबिशन के बारे में विस्तार से बतायेंगे।

इस एग्जीबिशन का विशेष आकर्षण सिटी पैलेस संग्रहालय (जयपुर) के प्राचीन संग्रह में से लिये गये अनदेखे फोटोग्राफ होंगे, जिनका गत अनेक वर्षों से सावधानीपूर्वक संरक्षित एवं डिजिटलीकरण किया गया है। इनके माध्यम से सवाई राम सिंह द्वारा फोटोग्राफी के साथ किये गये प्रयोगों को दर्शाया जायेगा।

‘एलिप्सिस‘ की भांति यह एग्जीबिशन फोटोग्राफ्स के माध्यम से अतीत एवं वर्तमान और अलंकारिता एवं कल्पना के मध्य के अंतराल को दूर करती है। यह प्रदर्शनी वैश्विक एवं विस्तृत संवाद के संदर्भ में फोटोग्राफी की भूमिका को भी दर्शाएगी। यह एग्जीबिशन मात्र फोटोग्राफ पर ही नहीं हैं बल्कि इमेज मेकिंग पर भी केंद्रित है। एग्जीबिशन के तीन भाग इस प्रकार से हांेंगेः

महाराजा सवाई राम सिंह द्वितीयः
एग्जीबिशन के इस भाग में भारत के प्रथम प्रतिष्ठित फोटोग्राफर जयपुर के महाराजा सवाई राम सिंह द्वितीय के संग्रह के कुछ दुर्लभ फोटोग्राफ प्रदर्शित किए जाएंगे। जयपुर के सिटी पैलेस संग्रहालय से लिए गए इन फोटोग्राफ्स के जरिए महाराजा के फोटोग्राफी के शुरुआती जुड़ाव को विस्तार के साथ बताया जाएगा। उनके फोटोग्राफ्स एवं अलकाज़ी कलेक्शन के कुछ विंटेज सैम्पल दर्शकों को यह सोचने पर विवश करेंगे कि लेंस की आधुनिक सफलता के बीच औपनिवेशिक संदर्भ में उपमहाद्वीप में फोटोग्राफी कार्य जोखिम भरा था।

पिक्सः
एग्जीबिशन के ‘पिक्स‘ भाग में दक्षिण एशिया में 10 वर्षों से कार्यरत प्रेक्टिशनर्स द्वारा पोइट्री, प्रोज एवं अन्य नैरटिव्ज का संयोजन देखने को मिलेगा। ‘पिक्स‘ में प्रकाशित कलेक्शन तुलनात्मक रीडिंग के लिये प्रेरित करेंगे।

नंदन घीयाः
एग्जीबिशन के इस भाग में नंदन घीया की फोटो, स्कल्पचर एवं ग्राफिक कायों को प्रदर्शित किया जाएगा। इसमें डिजीटल आइकॉनोग्राफिक्स के जरिए ऑथरशिप एवं ऑरिजनेलिटी के मध्य के सौदर्यपरक सम्बंधों को पुनः परिभाषित किया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि जेकेके द्वारा ‘द अलकाजी फाउंडेशन फॉर द आर्ट्स‘ (एएफए), पिक्स, सिटी पैलेस म्यूजियम (महाराजा सवाई मान सिंह द्वितीय संग्रहालय) और ‘एग्जीबिट 320‘ के साथ मिलकर यह एक्जीबिशन आयोजित की जा रही है। यह प्रदर्शनी 16 फरवरी से 30 अप्रेल तक (सोमवार एवं सार्वजनिक अवकाश को छोड़कर) प्रातः 11 बजे से सायं 7 बजे तक विजिटर्स के लिए खुली रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *