आर.टी.ई. नियमों के विपरीत मर्ज किये गये विद्यालयों की समीक्षा

ram

गुणावगुण के आधार पर पुनः प्रारम्भ हो सकेंगे
– शिक्षा राज्य मंत्री

जयपुर। शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने सोमवार को विधानसभा में कहा कि आर.टी.ई. नियमों के विपरीत मर्ज किये गये विद्यालयों की ब्लॉक स्तर पर उपखण्ड अधिकारी की अध्यक्षता में गठित कमेटी से समीक्षा कराकर प्रस्ताव प्राप्त किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि चिन्हि्त विद्यालयों को पर्याप्त नामांकन की सम्भावना को ध्यान में रखते हुए गुणावगुण के आधार पर पुनः प्रारम्भ किया जा सकेगा।  डोटासरा प्रश्नकाल के दौरान इस संबंध में विधायकों की ओर से पूछे गए पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार ने कुछ विद्यालयों को आर.टी.ई. नॉम्र्स के विपरीत एकीकृत किया। इसी कारण पूववर्ती सरकार को लगभग साढ़े चार लाख ट्रांसपोर्ट वाउचर्स वितरित करने पड़े।

इससे पहले विधायक वासुदेव देवनानी के मूल प्रश्न का जवाब देते हुए शिक्षा राज्य मंत्री ने वर्ष 2014 से 2018 तक राज्य सरकार द्वारा माध्यमिक शिक्षा के अंतर्गत समन्वित विद्यालयों का वर्षवार विवरण सदन के पटल पर रखा। उन्होंने बताया कि माध्यमिक शिक्षा अंतर्गत 16 हजार 262 उमावि, मावि, उप्रावि, प्रावि विद्यालयों को एकीकृत किया गया। उन्होंने जिलेवार विवरण भी सदन की मेज पर रखा। साथ ही उन्होंने वर्ष 2014 से 2018 तक राज्य सरकार द्वारा प्रारम्भिक शिक्षा के अंतर्गत एकीकृत विद्यालयों का वर्षवार विवरण भी सदन के पटल पर रखा। उन्होंने बताया कि प्रारम्भिक शिक्षा अंतर्गत 5942 उप्रावि, प्रावि विद्यालयों को एकीकृत किया गया। उन्होंने जिलेवार विवरण भी सदन के पटल पर रखा।

शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि माध्यमिक एवं प्रारम्भिक शिक्षा विभाग में कुल 22 हजार 204 विद्यालय एकीकृत किये गये जिनमें से नियम विरूद्ध बंद किये गये 2 हजार 450 विद्यालयों को पुनः खोला गया।  डोटासरा ने कहा कि आर.टी.ई. एक्ट 2009 एवं आर.टी रूल्स 2011 के अनुसार कक्षा 1 से 5 तक बालक-बालिकाओं के लिये 1 किलोमीटर तथा कक्षा 6 से 8 तक बालक-बालिकाओं के लिये 2 किलोमीटर पैदल दूरी के भीतर विद्यालय स्थापित किये जाने का प्रावधान है। उक्त सीमा के अंतर्गत विद्यालय स्थापित नहीं होने की स्थिति में राज्य सरकार या स्थानीय प्राधिकारी द्वारा प्रारम्भिक शिक्षा उपलब्ध कराने के लिये उक्त सीमा में छूट (शिथिलीकरण) के अंतर्गत बालक-बालिकाओं को निःशुल्क परिवहन और आवास सुविधाओं जैसा पर्याप्त इन्तजाम किये जाने का प्रावधान है।

शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि आर.टी.एक्ट 2009 के विरुद्ध बंद किये गये 1 किलोमीटर से अधिक की दूरी से 2 हजार 60 प्राथमिक विद्यालय तथा 2 किलोमीटर दूरी से अधिक 384 उच्च प्राथमिक विद्यालयों, कुल 2 हजार 450 प्राथमिक, उच्च प्राथमिक विद्यालयों को पुनः खोला गया है।

उन्होंने कहा कि स्कूल बंद किये जाने के कारण बालक-बालिकाओं को ट्रांसपोर्ट वाउचर दिये गये। इस योजना के लिये पात्रता में कक्षा 1 से 5 के ऎसे बालक-बालिकाएं जिनके निवास स्थान से 1 किलोमीटर की दूरी पर कोई राजकीय प्राथमिक विद्यालय तथा कक्षा 6 से 8 के ऎसे बालक-बालिकाएं जिनके निवास स्थान से 2 किलोमीटर की दूरी पर कोई उच्च प्राथमिक विद्यालय नहीं है इस प्रकार कक्षा 1 से 8 के 4 लाख 30 हजार 523 बालक-बालिकाओं को ट्रांसपोर्ट वाउचर की राशि का भुगतान किया गया, जिस पर 68.676 करोड़ रूपये राशि व्यय की गई है।

डोटासरा ने कहा कि आर.टी.ई. नियमों के विपरीत मर्ज किये गये अन्य शेष विद्यालयों की ब्लॉक स्तर पर उपखण्ड अधिकारी की अध्यक्षता में गठित कमेटी से समीक्षा कराकर प्रस्ताव प्राप्त किये जा रहे हैं। उन्होंने आदेश की प्रति सदन की मेज पर रखी।

शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि एकीकृत विद्यालयों की समीक्षा उपरान्त नियमों एवं बालक-बालिकाओं की सुविधा के विपरीत बंद किए गए चिन्हि्त विद्यालयों को पर्याप्त नामांकन की सम्भावना को ध्यान में रखते हुए गुणावगुण के आधार पर पुनः प्रारम्भ किया जा सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *