गुजरात में बोले PM मोदी- दिल्ली से आज एक रुपया निकलता है, तो पूरे सौ पैसे पहुंचते हैं

गुजरात के वलसाड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल जी को किया याद। कहा, हम अटल जी के सपनों को पूरा करेंगे।

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने एक दिवसीय दौरे पर गुजरात में हैं। जहां उन्होंने तय कार्यक्रम के हिसाब से सबसे पहले वलसाड में ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किए। साथ ही, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों से संवाद भी स्थापित किया। इसके अलावा वलसाड में जलापूर्ति परियोजना का भी शिलान्यास किया। इस दौरान मुख्यमंत्री विजय रुपाणी में उनके साथ मौजूद रहे।

वलसाड रैली में क्या बोले PM मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात में एक लाख से अधिक परिवारों को आवास भेंट करते हुए कहा कि सरकार का पैसा व परिवार का पसीना साथ आने से गरीबों को भी बंगले जैसे घर नसीब हुए हैं। ऐसा इसलिए साकार हो सका चूंकि दिल्ली से निकला एक रुपया पूरा का पूरा इनके खाते में पहुंचता है। वीडियो लिंक से मोदी ने विविध जिलों की महिलाओं से बात करते हुए स्वच्छता, शौचालय, सड़क, पानी व बिजली आदि सुविधा व भ्रष्टाचार पर भी सीधे अपडेट लिया।

प्रधानमंत्री मोदी एक दिवसीय गुजरात यात्रा पर गुरुवार सुबह सूरत एयरपोर्ट पहुंचे, जहां से वे वलसाड के जुजवा गांव पहुंचे। मोदी ने यहां से प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लाभांवित एक लाख से अधिक आवासों को उनके लाभार्थियों को समर्पित किया। ध्यान रहे कि गुजरात के गरीब परिवारों की बहनों से किया वादा प्रधानमंत्री मोदी ने रक्षा बंधन के ठीक पहले पूरा करते हुए एक लाख से अधिक महिलाओं को घर सौंपे। वहीं महिलाओं को जलसंकट से मुक्ति दिलाने के लिए 600 करोड़ की पेयजल योजना का भी शिलान्यास किया। केंद्र में सत्ता में आते ही मोदी ने रक्षा बंधन के दिन ही सुरक्षा बीमा योजना की शुरुआत की थी, जिससे आज करोड़ों महिला-पुरुष लाभांवित हो रहे हैं। पीएम की अपील पर सांसद व विधायक खुद इसका प्रीमियम भरने पहुंचे थे। मोदी ने विडियो लिंक के जरिए ग्रामीण महिलाओं से बड़ी आत्मीयता पूर्वक बात की, वहीं बातों ही बातों में गुजरात के शासन प्रशासन की भी खैर खबर लेने से नहीं चूके।

राजीव गांधी का जिक्र करते हुए कहा
पीएम मोदी ने यहां कहा कि सरकार का पैसा व गरीब परिवार का पसीना मिलता है तो गरीब को भी बंगले जैसा घर नसीब हो सकता है। वे बोले यह इसीलिए संभव हो सका चूंकि दिल्ली से भेजा गए एक रुपया पूरा उनके खाते में आता है। उनका इशारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के उस बयान की ओर था, जिसमें वे बोले थे कि दिल्ली से 1 रुपया निकलता है तो गांव तक 15 पैसा पहुंचता है। मोदी बोले कि सरकार ने अब बिचौलिए व कमीशनखोरों को निकाल दिया है। मोदी ने रक्षा बंधन के पर्व को याद करते हुए कहा कि एक लाख से अधिक बहनों का ग्रह प्रवेश व 600 करोड़ की पेयजल योजना रक्षा बंधन से पहले उन्हें एक अनूठी भेंट है। देशा की करोड़ों माताओं व बहनों का आशीर्वाद ही उनके लिए रक्षा कवच का काम करता है। मोदी ने कहा कि किराए के घर में जिंदगी कैसी होती है सब जानते हैं, लेकिन जब खुद का घर होता है तो सपने साकार होने लगते हैं। मोदी ने अपने पुरानी यादें ताजा करते हुए कहा कि धरमपुर में वे लंबे समय तक रहे तब सोचते थे सबसे अधिक वर्षा होने के बाद भी इन इलाकों में जलसंकट रहता है, लेकिन सीएम बनने के बाद सबसे पहले उमरगाम से अंबाजी के पट में बसे आदिवासियों की प्राथमिक सुविधाओं को पूरा करने पर जोर दिया।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 600 करोड़ की पेयजल योजना से लाखों परिवारों को पानी पहुंचाया जाएगा। एक गांव के दो सौ से तीन सो परिवार के लिए दो सौ मंजिल ऊंचाई तक पानी को लिफ्ट कर पहुंचाया जाएगा, जो तकनीक का एक चमत्कार होगा। मोदी बताते हैं कि गिर सोमनाथ में एक मतदान केंद्र ऐसा है जिसमें एक ही मतदाता है। चुनाव के समय देश व दुनिया में उसकी चर्चा होती है भारत के लोकतंत्र पर आश्चर्य जताया जाता है लेकिन भविष्य में इस गांव को पानी पहुंचाना भी सुर्खियां बनेगा। मोदी ने कहा पानी के लिए काम करने वाले लाखा वणजारा की लोककथा आज भी गुजरात व राजस्थान में सुनाई जाती है, जनता लोकहित में किए गए कामों की सराहना जरूर करती है।

कांग्रेस पर भड़के रुपाणी
वहीं मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा कि भाजपा सरकार लोगों को घर का सपना नहीं दिखाती जो वादा करती है उसे पूरा जरूर करती है। तय समय से पहले एक लाख से अधिक परिवारों को उनका घर देकर अपना वादा आज पूरा कर रही है। गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने घर योजना की घोषणा कर गरीब परिवारों को घर दिलाने का वादा किया था, जिस पर मुख्यमंत्री चुटकी ले रहे थे। रुपाणी ने कहा आज गरीब के घर में भी पानी, बिजली, गैस व शौचालय की सुविधा है जो कभी सिर्फ अमीरों का नसीब होती थी।

PM ने महिलाओं से पूछे सवाल
राजकोट की सुरेखा बेन ने जब झौंपड़े से निकालकर उसके परिवार को पक्का मकान दिलाने के लिए पीएम का आभार जताया, तो मोदी ने पूछा घर लेने के लिए किसी दलाल को रिश्वत तो नहीं देनी पड़ी, महिला का जवाब था नहीं। जूनागढ़ में वादी समाज की महिलाओं से बात करते हुए मोदी ने पूछा लड़कियों को स्कूल भेजते हो या नहीं। साथ ही पूछा कि महिलाओं को आसानी से काम मिल जाता है कि नहीं। नलिया कच्छ की हंसाबेन से पीएम ने पूछा कि रणोत्सव के बाद उनका हस्तकला का कारोबार बढ़ा या नहीं, कच्छ के विकास का लाभ उनको मिला की नहीं। वहीं धोलेरा की महिला से पूछा कि घर के दस्तावेज उसके नाम पर है या पति के नाम पर। गौरतलब है कि पीएम आवास योजना के तहत अब मकान के दस्तावेज महिलाओं के नाम पर ही किए जाते हैं। असिता नामक एक महिला ने जब पक्के मकान, शौचालय, पानी बिजली व गैस जैसी सुविधा के लिए पीएम व सीएम का आभार जताते हुए कहा कि अब खुले में शौच करने नहीं जाना पड़ता, खूले में नहाने से मुक्ति मिली। सरकार ने परिवार की आबरू बचाने का काम किया है।

पीएम आवास को देख की पिता ने शादी
साबरकांठा की एक महिला ने जब मोदी से कहा कि अब वह निसंकोच मेहमानों को अपने घर बुला सकती है, पहले कच्चे झौंपड़े में किसी को बुलाने में संकोच होता था। इस महिला से प्रधानमंत्री ने पूछा की पुंसरी गांव कितना दूर है, क्या अपने गांव को भी पुंसरी जैसा देश का मॉडल विलेज जैसा बनाना चाहते हैं। बातों-बातों में मोदी घरों पर बनाए गए चित्र, साफ सफाई, घर में पकवाने बनाने, शौचालय के उपयोग व स्वरोजगार के बारे में भी पूछते रहे। सुरेंद्रनगर वढवाण कि कंचन बेन ने बताया कि उसके बच्चे पूछा करते थे कि उनका पक्का घर कब बनेगा, क्या जिंदगी भर कच्चे झौंपड़े में ही रहना पड़ेगा। वहीं वडोदरा जिले की एक महिला किंजल बेन ने बताया कि उसके पिता यहां उसकी सगाई करने को तैयार नहीं थे, लेकिन पक्का घर व शौचालय साथ में पानी, बिजली, गैस जैसी सुविधा देखकर पिता ने सगाई कर हाथों हाथ शादी भी कर दी।

बता दें कि शाम को राजधानी गांधीनगर में ‘गुजरात फॉरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय’ में दीक्षांत समारोह में शामिल होने और उत्तीर्ण छात्रों को प्रमाण पत्र और मेडल वितरित करेंगे। मोदी का गांधीनगर में राजभवन में श्रीसोमनाथ ट्रस्ट की बैठक में हिस्सा लेने का भी कार्यक्रम है। प्रधानमंत्री इस ट्रस्ट के एक न्यासी हैं। कहा जा रहा है कि नई दिल्ली रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी अगले वर्ष लोकसभा चुनावों की रणनीति बनाने के लिए गुजरात के भाजपा नेताओं के साथ बैठक भी कर सकते हैं।

By - Sukhdev Choudhary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *